एमसीबी कैसे कार्य करता है?

 

हमारे आपके घर में जो MCB लगी होती है अगर आपके घर में कोई फाल्ट होता है तो वह ट्रिप हो जाती है तो आपने जरूर सोचा होगा की एमसीबी कैसे कार्य करता है? यह इस प्रकार से हमारे घर के उपकरणों की सुरक्षा करता है।

Mcb क्या है

MCB एक ऐसा विद्युत उपकरण है जो विद्युत सप्लाई को हमें जैसी आवश्यकता होती है उसी प्रकार बंद व चालू करता है

जब हमें विद्युत सप्लाई को बंद करना होता है तो इसमें लगा हुआ एक नाब को हम नीचे गिरा देते हैं तो सप्लाई बंद हो जाती है और उसे नाब को हम ऊपर उठा देते हैं तो सप्लाई चालू हो जाती है

यह कई प्रकार से हमको सुरक्षा भी देता है इसमें प्रमुख बात यह है की एमसीबी कैसे कार्य करता है? जिसको हम आगे देखेंगे।

एमसीबी कैसे कार्य करता है?

एमसीबी कैसे कार्य करता है? को समझने से पहले MCB के बारे में जानना होगा। MCB 1 पोल, 2 पोल, 3 पोल, 4 पोल में उपलब्ध है यदि हम MCB को खोल करके देखें कि उसका वर्किंग प्रिंसिपल क्या है

वह काम कैसे करता है तो MCB के ऊपर और नीचे दोनों साइड में 2 कांटेक्ट टर्मिनल होते हैं इसमें नीचे के टर्मिनल पर हम सप्लाई का इनकमिंग वायर लगते हैं

और ऊपर के टर्मिनल पर हम आउटगोइंग का तार लगाते हैं जो उपकरण को सप्लाई देता है

यहां पर एक आर्क सूट होता है कांटेक्ट मेक और ब्रेक के दौरान जो चिंगारी निकलती है उस चिंगारी को हम इस आर्क सूट की सहायता से खत्म करते हैं

इसके अलावा इसमें एक सोलेनाइड कोइल होती है और इसमें एक फिक्स कांटेक्ट होता है और एक मूविंग कांटेक्ट होता है MCB दो प्रकार के फाल्ट के लिए उपयोग में लाया जाता है

यह भी जाने।

1- एमसीबी के 5 प्रकार बताइए।

2- सर्किट ब्रेकर कितने प्रकार के होते हैं?

जिसमें से पहला होता है ओवरलोड की कंडीशन और दूसरा होता है शॉर्ट सर्किट की कंडीशन ओवरलोड की कंडीशन में बाईमेटलिक स्ट्रिप की वजह से MCB ऑपरेट होती है

और वहीं पर शॉर्ट सर्किट की कंडीशन में सोलेनाइड कोइल की वजह से MCB ऑपरेट होती है अब आईए जानते हैं

ओवरलोड की स्तिथि में MCB कैसे काम करती है करंट MCB में आने के बाद यह बाईमेटलिक स्ट्रिप के माध्यम से होते हुवे बाहर निकलती है

अब जब ओवर लोड की स्तिथि आती है तब बाईमेटलिक स्ट्रिप जिसमे एक साथ 2 धातुए होती है जो गरम होने पर एक ज्यादा फैलती है और दूसरी काम फैलती है

तो ओवर लोड होने पर बाईमेटलिक स्ट्रिप की एक धातु ज्यादा मुड़ती है तो वह ट्रिपिंग लीवर को खींचती है और MCB ऑफ हो जाती है।

अब हम जाते हैं कि शॉर्ट सर्किट के कारण MCB में ट्रिपिंग कैसे होती है यदि किसी उपकरण के अंदर शॉर्ट सर्किट हो जाता है तब MCB ट्रिप हो जाती है इसका कारण है

इसके अंदर लगी सोलेनाइड क्वायल जब शार्ट सर्किट होती है तभी MCB में लगी सोलेनाइड क्वायल में बहुत ज्यादा मात्रा में मैग्नेटिक फील्ड बनती है

और यह इसके अंदर लगे प्लगर को आगे की तरफ धकेलती है जिससे कि ट्रिपिंग लीवर भी इस धक्के से आगे चल जाता है और हमारी MCB ट्रिप हो जाती है।

इस प्रकार से MCB कार्य करता है।

एमसीबी कैसे कार्य करता है?

MCB का प्रयोग क्यों होता है?

MCB एक यूजर फ्रेंडली इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट है इसको हम अपनी आवश्यकता के अनुसार मैनेज कर सकते हैं पहले के समय में जब MCB नहीं होती थी तब इसके स्थान पर हम फ्यूज का उपयोग करते थे

फ्यूज के काम करने का तरीका MCB की तरह ही होता है यह भी ओवरलोड और शॉर्ट सर्किट की स्तिथि में सुरक्षा देता है जब शॉर्ट सर्किट या ओवरलोड की स्तिथि आती है तो फ्यूज ओपन हो जाता है जिससे उपकरण सुरक्षित बच जाता है 

लेकिन फ्यूज के साथ एक समस्या यह भी होती है की फ्यूज जितनी बार ओपन होगा उतनी बार हमें फ्यूज में नया फ्यूज वायर लगाना पड़ेगा इसमें मेंटेनेंस ज्यादा होता है

और इसके साथ-2 इसमें एक समस्या यह भी होती है कि अगर आपको किसी सर्किट में फ्यूज को लगाना है और उस सर्किट में अधिकतम 2 एम्पेयर के करंट से सर्किट को बचाना है

कि अगर दो एंपियर से ऊपर करंट फ्लो हो तो फ्यूज ओपन हो जाए तो उस स्तिथि पर आप दो एंपियर के फ्यूज का निर्धारण आसानी से नहीं कर पाएंगे

उसके लिए आपको कई प्रकार की टेस्टिंग करके फ्यूज को निर्धारित करना होगा लेकिन MCB के साथ ऐसा नहीं होता है

MCB पर करंट की रेटिंग लिखी होती है अब आपने अगर 2 एंपियर की MCB लगा दी तो जैसे ही 2 एंपियर से ज्यादा का करंट बहेगा तुरंत MCB ट्रिप हो जाएगी।

तो इसमें हमको किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होती है और इसमें कोई मेंटेनेंस नहीं होता है जैसा फ्यूज में होता है कि फ्यूज वायर को बार-2 बदलना पड़ता है MCB में उसकी जो ट्रिपिंग नोब होती है वह गिर जाती है

से हमें सिर्फ उठना होता है और सर्किट चालू हो जाती है MCB की एक्यूरेसी फ्यूज से ज्यादा अच्छी होती है इसमें अगर आप काम कर रहे हैं

तो आप फ्यूज की अपेक्षा ज्यादा सुरक्षित होंगे तो इन्हीं कुछ कारणो की वजह से MCB का उपयोग ज्यादा किया जाता है फ्यूज की अपेक्षा।

MCB और FUSE में क्या अन्तर है?

फ्यूज MCB
1- फ्यूज में एक पतले वायर का प्रयोग किया जाता है जो ओवरलोड और शॉर्ट सर्किट की स्तिथि में सर्किट को सुरक्षित रखता है। 1- MCB एक आटोमेटिक इलेक्ट्रोमैकेनिकल स्विच होता है यह सर्किट में ओवरलोड और शॉर्ट सर्किट की स्थिति में सुरक्षा प्रदान करता है।
2- फ्यूज जितनी बार सर्किट को बंद करेगा उतनी बार उसका फ्यूज वायर जल जाएगा और सर्किट को फिर से चालू करने के लिए हर बार नए फ्यूज वायर को लगाना पड़ता है। 2- MCB जितनी बार सर्किट को बंद करेगी उतनी बार उसके नोब को सिर्फ उठाने से सर्किट चालू हो जाएगी।
3- यह सस्ता होता है। 3- यह महंगा होता है।
4- फ्यूज का आकार छोटा होता है इसीलिए इलेक्ट्रॉनिक कार्ड में फ्यूज का ही उपयोग किया जाता है। 4- MCB का आकार बड़ा होता है।
5- यह कम सेंसिटिव है। 5- यह ज्यादा सेंसिटिव है।
6- इसका उपयोग कम सुरक्षित होता है। 6- इसका उपयोग फ्यूज की तुलना में ज्यादा सुरक्षित होता है।
7- एक फ्यूज से सिर्फ एक ही सर्किट को सप्लाई दे सकते हैं। 7- MCB 1 पोल, 2 पोल, 3 पोल, 4 पोल में आती है इससे हम एक साथ कई सर्किट को सप्लाई दे सकते हैं।

MCB और आइसोलेटर में अंतर

आइसोलेटर

MCB
1- आइसोलेटर एक ऑफ लोड डिवाइस है। 1- MCB एक ऑन लोड डिवाइस है।
2- यह मैन्युअल रूप से संचालित होता है। 2- यह स्वचालित रूप से संचालित होता है।
3- यह मकैनिकल उपकरण है जो स्विच की तरह कार्य करता है। 3- यह आटोमेटिक इलेक्ट्रो मकेनिकल स्विच होता है।
4- आइसोलेटर केवल रखरखाव या मेंटेनेंस के दौरान बिजली बाधित करने के लिए है। 4- MCB प्रयोग के समय शॉर्ट सर्किट और ओवरलोड दोषों से सर्किट या उपकरण की सुरक्षा करता हैं।
5- इसपर कोई सिम्बल नहीं बना होता है। 5- इसपर MCB का सिंबल बना होता है।

मैं सही मान का MCB कैसे चुनूं?

घर की वायरिंग में या कही पर भी सही मान के MCB को लगाना बहुत जरुरी है।

Ex. for Single Phase
V = 230
P = 3 kw(3×1000)= 3000W   (1 Kw= 1000 watt)
I = P/V
I = 3000÷230
= 13.04 Amp
लेकिन जब भी हम सही मान का MCB ढूंढते है तब 15 से 20% ज्यादा का MCB लगाते है तो
13.04×20÷100
=2.608
तो
13.04+2.608
=15.648 A (लेकिन 15.648 Amp की mcb मार्केट में मिलती नहीं तो हम 16A MCB लगा सकते है।)

Ex. for Three Phase
V = 415
P = 3kw (1×3000)= 3000 watt   (1 Kw= 1000 watt) 
I = P/V×√3
I = 3000÷415×√3
=3000÷415×1.732
=3000÷718.78
=4.173 Amp

लेकिन जब भी हम सही मान का MCB ढूंढते है तब 15 से 20% ज्यादा का MCB लगाते है तो

4.173 ×20÷100
=0.8346
तो
4.173 + 0.8346 
= 5.0076 A (लेकिन 5.0076 Amp की mcb मार्केट में मिलती नहीं तो हम 6 A MCB लगा सकते है।)

32 amp एमसीबी कितना लोड ले सकता है?

32 एम्पेयर की MCB के लोड को कैलकुलेट करना वह कितना एम्पेयर का करंट फ्लो करा सकता है।

Single Phase

P= V×I×Cosϕ

P= 230×32×0.8

P= 5888 वाट (1000 watt= 1 Kwh)

P= 5.8 Kw

Three Phase

P= √3×V×I×Cosϕ

P= 1.732×415×32×0.8

P= 18401 वाट (1000 watt= 1 Kwh)

P= 18.401 Kw

निष्कर्ष

इस पोस्ट में हमने जाना एमसीबी कैसे कार्य करता है?, MCB क्या है, MCB का प्रयोग क्या होता है, फ्यूज और MCB में क्या अंतर है, MCB और आइसोलेटर में क्या अंतर है, मैं सही मान का MCB कैसे चुनूं, 32 एम्पेयर MCB कितना लोड ले सकता है। इन सभी बिन्दुओ विस्तार से जाना।

यह भी पढ़े।

1- डीजी में चेक कितने होते है?

2- ट्यूबलाइट में चोक क्यों लगाते है?


अब भी कोई सवाल आप के मन में हो तो आप इस पोस्ट के नीचे कमेंट करके पूछ सकते है या फिर इंस्टाग्राम पर rudresh_srivastav” पर भी अपना सवाल पूछ सकते है।

अगर आपको इलेक्ट्रिकल की वीडियो देखना पसंद है तो आप हमारे चैनल target electrician  पर विजिट कर सकते है। धन्यवाद्

एमसीबी कैसे कार्य करता है? से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर (Mcq)-

1- एमसीबी का क्या काम होता है?

MCB एक इलेक्ट्रो मकेनिकल डिवाइस है यह ओवर लोड और शार्ट सर्किट से इलेक्ट्रिकल उपकरण को बचता है।

2- एमसीबी कितने प्रकार के होते हैं?

MCB B C D K और Z कुल 5 प्रकार के होते है।

3- क्या एमसीबी बिजली के झटके से बचाता है?

MCB केवल और केवल ओवर लोड और शार्ट सर्किट से बचाता है यह लीकेज करंट से सेफ्टी नहीं देता है।

4- घर में कौन सी एमसीबी का उपयोग किया जाता है?

हमें अपने घरो में C टाइप MCB का ही उपयोग करना चाहिए अगर C टाइप की MCB नहीं उपलब्थ है  तो B टाइप की MCB का हम उपयोग कर सकते है।

5- MCB बार-2 क्यों गिरता है?

MCB ओवर लोड और शार्ट सर्किट किसी सर्किट में होने पर ट्रिप हो जाती है और यह तब तक ट्रिप होता है जब तक इस फॉल्ट को सही न किया जाये।

मेरा नाम आर के श्रीवास्तव है इस ब्लॉग में आपको इलेक्ट्रीशियन ट्रेड से संबंधित सभी प्रकार की रोचक जानकारी मिलेगी, जिससे आप रोज नई-नई जानकारी सीख पाएंगे। आपके मन में किसी भी प्रकार का कोई भी प्रश्न/कंफ्यूजन है तो उसे कमेंट सेक्शन में जाकर जरूर कमेंट करे मैं जल्द से जल्द उस प्रश्न/कंफ्यूजन का उत्तर दूंगा और आपकी कंफ्यूजन को दूर करने का पूरा प्रयास करूंगा। धन्यवाद्